scorecardresearch

Samosa Singh: लाखों की नौकरी छोड़ देशी स्नैक्स समोसे का बिजनेस शुरू किया, 45 करोड़ का है सालाना टर्नओवर

Samosa Singh Success Story: बंगलुरु में रहने वाले इस दंपति ने देशी समोसे से आज करोड़ों बिजनेस खड़ा कर दिया है और कई शहरों में आज उनके क्लाउड किचन हैं.

Samosa Singh founders (Photo: Instagram/@samosasingh) Samosa Singh founders (Photo: Instagram/@samosasingh)
हाइलाइट्स
  • मूल रूप से हरियाणा से हैं निधि और शिखर

  • साल 2009 में शिखर को आया था यह आइडिया

गांव हो या शहर, गली का ठेला हो या कोई होटल, चाय के साथ हो या कोल्ड ड्रिंक के साथ, सिर्फ एक ही भारतीय स्नैक है जो कभी आपको निराश नहीं करता है. और यह है समोसा. बच्चे से लेकर बड़ों तक, हर किसी को समोसा पसंद होता है. 

भले ही नॉर्थ इंडियन्स को समोसा थोड़ा ज्यादा अपना लगता है लेकि साउथ में भी यह उतना ही फेमस है. लेकिन फिर भी क्या कोई सोच सकता है कि छोटी सी टपरी तक पर मिल जाने वाले समोसे से कोई करोड़ों का बिजनेस खड़ा कर दे?

जी हां, यह कारनामा किया है बंगलुरु में रहने वाले एक कपल ने. निधि सिंह और शिखर वीर सिंह, दोनों पति-पत्नी मूल रूप से हरियाणा के रहने वाले हैं. दोनों ने साथ में ग्रेजुएशन की और दोस्ती से राहें पहले प्यार और फिर शादी तक पहुंच गईं. अच्छी खासी नौकरी करके खुशहाल जिंदगी बिताने वाले ये पति-पत्नी अब बिजनेस पार्टनर्स हैं. और इनके ब्रांड का नाम है समोसा सिंह. 

पढ़ते समय ही आया था आइडिया 
The Weekend Leader के मुताबिक, शिखर ने ग्रेजुएशन के बाद हैदराबाद के इंस्टीट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज से बायोटेक्नोलॉजी में एमटेक किया है और इसके बाद वह भारत की सबसे बड़ी बायोटेक फर्मों में से एक बायोकॉन में प्रिंसिपल साइंटिस्ट के रूप में नौकरी कर रहे थे. वहीं, निधि अमेरिका की एक फार्मा कंपनी में नौकरी कर रही थी जिसका बेस गुरुग्राम था. 

मास्टर्स के समय ही शिखर को हैदराबाद में समोसे का बिजनेस करने का आइडिया आया. उन्होंने निधि को इस बारे में बताया लेकिन निधि ने उन्हें मजाक में टाल दिया कि उनके पिता एक समोसे वाले से उनकी शादी नहीं करेंगे. और शिखर ने नौकरी ले ली. साल 2010 में दोनों ने शादी की. 

लेकिन शिखर के दिमाग से बिजनेस आइडिया नहीं किया. साल 2015 में उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और अपने बिजनेस आइडिया पर काम किया. निधि ने भी उन्हें सपोर्ट किया. फरवरी 2016 में उन्होंने बेंगलुरु में समोसा सिंह का पहला आउटलेट लॉन्च किया. 

अपने घर को बेचकर की इंवेस्टमेंट
The Weekend Leader की रिपोर्ट के मुताबिक, दंपति ने अपनी बचत के साथ इस आउटलेट को शुरू किया था. लेकिन जल्द ही उन्हें बड़ी किचन शुरू करने की जरूरत लगी. इसके लिए उन्होंने अपने अपार्टमेंट को बेच दिया जिसे उन्होंने बहुत मेहनत से खरीदा था. वे मुश्किल से सिर्फ एक दिन उस घर में रहे और फिर इसे बेचकर अपने बिजनेस में पैसा लगाया. 

लेकिन इन दोनों को इस बात का कोई अफसोस नहीं है क्योंकि उन्हें खुद पर भरोसा था. जब बिजनेस चलने लगा तो निधि ने 2017 में अपनी 30 लाख रुपए सालाना पैकेज की नौकरी को छोड़कर बिजनेस पर फोकस किया. आज उनका बिजनेस 4 गुना ग्रोथ रेट से बढ़ रहा है. 

45 करोड़ का सलाना टर्नओवर 
आज, निधि और शिखर के पास बेंगलुरु में एक ऑटोमेटेड किचन है जहां वे हर महीने 30,000 समोसे बेच रहे हैं. इस साल उनका टर्नओवर 45 करोड़ रुपए तक रहेगा. उन्होंने जिन दो कुक्स के साथ अपना बिजनेस शुरू किया था, आज वे उनके प्रोडक्शन हेड हैं. उन्होंने बहुराष्ट्रीय कंपनियों, एयरलाइंस और मल्टीप्लेक्स को आपूर्ति शुरू की और साल दर साल बिक्री बढ़ती गई.

महामारी के बाद, उन्होंने और शहरों में बिजनेस फैलाया. आज, उनके पास लगभग 50 क्लाउड किचन हैं और मुंबई, पुणे और चेन्नई सहित आठ शहरों में मौजूद हैं.