scorecardresearch

धर्म

4 दिसंबर को शनिश्चरी अमावस्या, स्नान-दान और पूजा का है पर्व; पितरों के लिए 12 बजे करें धूप-ध्यान

01 दिसंबर 2021

अमावस्या के दिन पवित्र नदियों में स्नान करने की परंपरा है. अगर संभव हो तो पवित्र नदियों में स्नान करने जाएं और सूर्य को जल अर्पण करें. अगर किसी कारण से पवित्र नदी में स्नान करने नहीं जा पा रहे हैं तो घर पर ही पानी में गंगा जल या किसी पवित्र नदी का जल मिलाकर स्नान करें.

दुनिया की पहली किन्नर कथा वाचक हिमांगी सखी की भागवत कथा, सुनने पहुंची भक्तों की भीड़

01 दिसंबर 2021

विश्व भर के 50 नगरों में श्रीमद् भागवत कथा का वाचन कर चुकी विश्व की पहली किन्नर भागवत आचार्य महामंडलेश्वर हिमांगी सखी इन दिनों मध्य प्रदेश की संस्कारधानी जबलपुर में संगीतमय भागवत कथा के आयोजन को सुशोभित कर रही हैं. मध्यप्रदेश में यह पहला मौका है जब कोई किन्नर संत भागवत कथा का वाचन कर रही हो. जबलपुर के गुप्तेश्वर इलाके में हो रही इस संगीतमय भागवत कथा में रोजाना बड़ी संख्या में भक्तों की भीड़ भी किन्नर संत को सुनने पहुंच रही है. देखें ये रिपोर्ट.

Dog Temple (Credits: Indian Rituals/YouTube)

इस जगह स्थित है कुत्ते का मंदिर, दूर-दूर से पूजा करने आते हैं लोग, जानिए क्यों...

01 दिसंबर 2021

गांव-देहात में संत-महात्माओं के नाम पर बने मंदिर तो आपने लगभग सभी जगह देखे होंगे. लेकिन क्या आपने खासतौर पर किसी जानवर को समर्पित मंदिर देखा है? शायद कभी नहीं. लेकिन आज हम आपको बता रहे हैं एक अनोखे या यूँ कहे कि अजीबोगरीब मंदिर के बारे में. छत्तीसगढ़ के बालोद में स्थित इस मंदिर में कुत्ते की पूजा होती है. इस मंदिर को कुकुरदेव मंदिर के नाम से जाना जाता है.

Char Dham Devasthanam Board Management Act repeal

उत्तराखंड में चारधाम देवस्थानम बोर्ड भंग, जानिए इसके विवाद की पूरी कहानी

30 नवंबर 2021

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने चारधाम देवस्थानम बोर्ड पर लिया गया त्रिवेंद्र सरकार के फैसले को पलट दिया है. सीएम धामी ने बड़ा फैसला लेते हुए देवस्थानम बोर्ड को भंग करने का एलान किया है. उत्तराखंड के तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने 28 नवंबर 2019 को गढ़वाल मंडल के 51 मंदिरों को श्राइन बोर्ड की तर्ज पर देवस्थानम बोर्ड के अधीन कर दिया था.

उत्‍पन्ना एकादशी 2021

Utpanna Ekadashi 2021: उत्पन्ना एकादशी पर भगवान विष्णु को खुश करने के लिए करें इन देवी की पूजा, दुखों से मिलेगी मुक्ति

29 नवंबर 2021

Utpanna Ekadashi 2021: हिंदू धर्म में एकदाशी के व्रत का विशेष महत्व है. इस दिन सृष्टि कते पालनहार श्री हरि की पूजा और व्रत आदि करने से समस्त दुखों का नाश होता है.

आज का पंचांग, 29 नवंबर 2021: रात के 9.42 तक है उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र, जानें राहुकाल का समय

29 नवंबर 2021

इस वीडियो में पंडित शैलेंद्र पांडेय 29 नवंबर 2021 का पंचांग बता रहे हैं. पंचांग के अनुसार आज 29 नवम्बर 2021, सोमवार के दिन मार्गशीर्ष कृष्ण दशमी तिथि है. रात्रि के 09.42 तक उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र है. चन्द्रमा कन्या राशि में हैं. प्रातः 07.30 से 09.00 तक राहुकाल है. आज के दिन पूर्व दिशा जाना दिशाशूल है.

आज का महाउपाय: अगर चाहिए सफलता तो करें ये काम, महीने में करना होगा एक बार

29 नवंबर 2021

इस वीडियो में पंडित शैलेंद्र पांडेय 29 नवंबर 2021, सोमवार का महाउपाय बता रहे हैं. अगर कोई महत्वपूर्ण काम में सफलता चाहिए तो रात्रि में उत्तर की ओर मुंह करके बैठ जायें. एक पीले कागज़ पर लाल कलम से अपनी इच्छा लिखें. कागज़ जितना छोटा हो उतना ही अच्छा होगा, उस कागज़ को मोड़कर किसी भगवान या देवी की मूर्ति से दबा दें. अगले २४ घंटों में आपको सफलता मिल जायेगी. ये उपाय एक माह में केवल एक बार ही कर सकते हैं.

Solar Eclipse 2021

4 दिसंबर को लगेगा साल का आखिरा सूर्य ग्रहण, जानिए भारत में कहां-कहां और कब देखने को मिलेगा

26 नवंबर 2021

Last Solar Eclipse of 2021: इस साल के अंत में यानी 4 दिसंबर को साल का आखिरा सूर्य ग्रहण पड़ने वाला है. यह ठीक चंद्र ग्रहण के 15 दिन बाद पड़ेगा. यह इस साल का दूसरा सूर्य ग्रहण होगा. सूर्य ग्रहण हमेशा के चंद्र ग्रहण के दो सप्ताह पहले या बाद में पड़ता है. ये सूर्य ग्रहण आंशिक है और इसका सूतक काल भी मान्य नहीं है.

गुवाहटी का कामाख्या देवी मंदिर 

तीन दिन के लिए लाल हो जाता है इस मंदिर का झरना, छिपा है बड़ा राज

25 नवंबर 2021

भारत में अनेकों ऐसे मंदिर हैं, जो अपनी संस्कृति और मान्यता के लिए मशहूर हैं. ऐसे कई मंदिर हैं जो अपरम्परागत देवी-देवताओं के कारण, भूत-प्रेत संस्कार के कारण या हजारों सालों पुराने होने के लिए जाने जाते हैं. आज आपको इन मंदिरों के बारे में बताएंगे.

Ganesh Temple Tekdi Nagpur

नागपुर में टेकड़ी गणपत‍ि बाप्पा का 250 साल पुराना मंद‍िर, जान‍िए इसकी मह‍िमा

24 नवंबर 2021

इस पव‍ित्र स्थान पर गणपति तो मौजूद हैं ही. यहां पीपल के पेड़ के रूप में भगवान विष्णु भी वास करते हैं. वैसे तो हर पूजा की शुरुआत गणपति की अराधना से होती है लेकिन नागपुर के टेकड़ी में गणपति के साथ-साथ विष्णु की भी पूजा करनी होती है. इस तरह यहां आने वाले भक्तों को एक परिक्रमा करने से दो देवताओं की पूजा का फल मिल जाता है.

गंगाजल के फायदे

बड़े काम का है गंगाजल, घर में रखने के हैं कई चमत्कारिक फायदे

23 नवंबर 2021

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार गंगा का जल अत्यंत पवित्र और साफ माना जाता है. ग्रंथों के मुताबिक गंगा जल बुद्धि बढ़ाने वाला और पाचन तंत्र को मजबूत करने वाला होता है.