scorecardresearch

धर्म

प्रसाद आपकी पूजा-उपासना को कैसे बना सकता है लाभकारी, जानिए

20 जून 2024

ईश्वर की उपासना करने के लिए लोग अगल-अलग परंपराओं को मानते हैं. पूजा उपासना और ध्यान आत्मा को परमात्मा से जोड़ती हैं. सनानत धर्म में जितना महत्व उपासना का है, उतना ही महत्व ईश्वर को चढ़ाए जाने वाले प्रसाद का है. प्रसाद आपकी पूजा-उपासना को कैसे उत्तम बना सकते हैं. जानिए

क्या है पंचामृत और क्या है इसकी महिमा ? जानिए कब किया जाता है इसका प्रयोग

20 जून 2024

पांच तरह की विशेष चीज़ों को मिलाकर पंचामृत का निर्माण किया जाता है. वे चीजें हैं - दूध , दही ,मधु,शक्कर, घी अलग-अलग तरह से पंचामृत देवी देवताओं को अर्पित करने और बनाने की परंपरा है. परन्तु मुख्य रूप से श्री हरि की पूजा में इसका विशेष प्रयोग होता है. बिना पंचामृत के श्री हरि या इनके अवतारों की पूजा नहीं हो सकती है.

जो व्यक्ति माता-पिता को प्रणाम करता है उसकी चार चीजें बढ़ जाती हैं, देखिए अच्छी बात धीरेंद्र शास्त्री के साथ

20 जून 2024

अच्छी बात के इस एपिसोड में पंडित धीरेंद्र शास्त्री बता रहे हैं कि अपने घर जब कोई बड़ा आये तो उसे दंडवत प्रणाम करना चाहिए. इसके अलावा पंडित धीरेंद्र शास्त्री बता रहे हैं कि माता पिता और गुरु को प्रणाम करने वाले व्यक्ति के जीवन में चार चीजें बढ़ जाती हैं.

जीवन में समृद्धि देता है हरा रंग, पंडित शैलेंद्र पांडेय से जानिए इसकी ताकत

20 जून 2024

हरा रंग जीवन में निश्चित रूप से समृद्धि देता है. इस रंग से विचारों में तेजी से परिवर्तन होता है. साथ ही यह मन को तुरंत एकाग्र कर देता है. इस वीडियो में जानिए हरे रंग की ताकत.

बुध से जुड़ी वो कौन सी समस्याएं हैं, जिनके लिए प्रदोष व्रत है सबसे कारगर उपाय

19 जून 2024

ज्योतिष शास्त्र में बुध एक महत्वपूर्ण ग्रह के तौर पर गिना और देखा जाता है. बुध को वाणी का स्वामी माना जाता है, तो दूसरी तरफ बुध को ही सुंदर शरीर का स्वामी भी बताया गया है. बुध से जुड़ी वो कौन सी समस्याएं हैं जिनके लिए प्रदोष व्रत सबसे कारगर उपाय है.

Jagannath Temple

हवा के विपरीत दिशा में लहराता है झंडा, जानें जगन्नाथ मंदिर के रहस्य

19 जून 2024

800 साल से भी ज्यादा पुराने जगन्नाथ मंदिर का नाम तो आपने जरूर सुना होगा. इस पवित्र मंदिर से जुड़ी ऐसी कई चमत्कारी और रहस्यमय बातें हैं जो लोगों को आश्चर्य से भर देती है. इन्हीं चमत्कारों में से एक है हवा के विपरीत दिशा में लहराता झंडा.

आपके मित्र कौन हैं ये बहुत महत्वपूर्ण है, देखिए अच्छी बात धीरेंद्र शास्त्री के साथ

19 जून 2024

अच्छी बात के इस एपिसोड में पंडित धीरेंद्र शास्त्री बता रहे हैं कि हमें किन चार चीजों का अभ्यास करना चाहिए. इसी क्रम में धीरेंद्र शास्त्री बता रहे हैं कि आपके मित्र कौन हैं ये बहुत महत्वपूर्ण है. देखिए अच्छी बात धीरेंद्र शास्त्री के साथ.

निर्जला एकादशी की महिमा और उसके दिव्य प्रयोग, पंडित शैलेंद्र पांडेय से जानिए

18 जून 2024

एक ऐसा चमत्कारी दिन जब श्रीहरि और महालक्ष्मी की विशेष कृपा मिलती है. ये वो शुभ दिन है जब नारायण भक्तों पर महाकृपा बरसाते हैं. इसीलिए इस दिन को ज्योतिष में इतना महत्व दिया जाता है. निर्जला एकादशी पर उपवास या व्रत करके आप हरि कृपा के भागी बन सकते हैं.

निर्जला एकादशी व्रत का पौराणिक है इतिहास, जानिए क्या है इसके पीछे की कथा

18 जून 2024

निर्जला एकादशी व्रत का इतिहास पौराणिक है. इस व्रत के बारे में महर्षि वेदव्यास ने पांडवों को बताया था. इसीलिए पौराणिक मान्यता यही है कि इस एकादशी का व्रत करके साल की बाकी एकादशी के व्रत का पुण्य पाया जा सकता है.

ज्येष्ठ मास का आखिरी बड़ा मंगल आज, अयोध्या के हनुमानगढ़ी में उमड़ी भक्तों की भारी भीड़

18 जून 2024

अयोध्या में भक्त बड़ा मंगल पर हनुमान जी का आशीर्वाद लेने के लिए हनुमान गढ़ी पहुंचे हैं. आज ज्येष्ठ माह का आखिरी बड़ा मंगल है और इसलिए हनुमानगढ़ी में आस्था का सैलाब है. लाखों भक्तों बजरंगबली के दर्शन पूजा के लिए अयोध्या पहुंचे हैं. असल में ज्येष्ठ के महीने में पड़ने वाले मंगलवार के दिन भगवान हनुमान की उपासना परम पुण्यकारी बताई गई है. मान्यता है कि ज्येष्ठ के महीने में ही भगवान राम से उनके दूत हनुमान की मुलाकात हुई थी. इसीलिए भक्त और भगवान के इसी मिलन की तिथि को उत्सव के रूप में मनाने की परंपरा है, जो त्रेतायुग से जुड़ी हुई है.

साल की सबसे बड़ी एकादशी आज, श्रद्धालुओं ने गंगा में लगाई आस्था की डुबकी

18 जून 2024

निर्जला एकादशी पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु गंगा स्नान के लिए पहुंचे हुए हैं. हरिद्वार में हर की पैड़ी समेत सभी गंगा घाटों पर श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई. मान्यता है कि निर्जल व्रत रहकर गंगा स्नान से अक्षय पुण्य मिलता है. हरिद्वार में भारी संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं, लिहाजा भक्तों की सुरक्षा व्यवस्था का भी खास ख्याल रखा जा रहा है.