scorecardresearch

SC on Muslim Woman: मुस्लिम महिलाओं ने जीत ली हक की एक और जंग! अब पति से मांग सकती हैं गुजारा भत्ता..शीर्ष अदालत का अहम फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने आज एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया है. कोर्ट ने तलाकशुदा मुस्लिम महिला को crpc की धारा 125 के तहत अपने पति से भरण पोषण का हकदार बताया है. जस्टिस बीवी नागरत्ना और जस्टिस ऑगस्टीन जॉर्ज मसीह की बेंच ने एक मुस्लिम युवक की याचिका को खारिज करते हुए यह आदेश दिया. कोर्ट ने माना कि CrPC की धारा 125 सभी महिलाओं पर लागू होगी, न कि केवल विवाहित महिलाओं पर. CrPC की धारा 125 में भरण पोषण का प्रावधान है. इसके मुताबिक कोई भी व्यक्ति जिसके पास अपना भरण-पोषण करने के लिए पर्याप्त साधन है, वह पत्नी, बच्चों और माता-पिता को भरण-पोषण देने से इनकार नहीं कर सकता.देखें चाय पर चर्चा.

The Supreme Court ruled on Wednesday that a divorced Muslim woman is entitled to maintenance from her former husband under Section 125 of the Code of Criminal Procedure. Watch the Video to Know More.