scorecardresearch

चाय पर चर्चा

काशी के रहने वाले 126 साल के बाबा शिवानंद को पद्मश्री अवॉर्ड, जानें बाबा के सेहतमंद होने का राज

27 जनवरी 2022

काशी के रहने वाले बाबा शिवानंद ने मानो उम्र को मात दे दी हो...शिवानंद बाबा 126 साल के हैं...लेकिन उम्र के इस पड़ाव पर भी पूरी तरह सेहतमंद हैं.योग, व्यायाम, संतुलित खान पान और संयमित जीवन शैली से बाबा ने नीरोग और स्वस्थ रहने का मानो वरदान पा लिया है..शिवानंद बाबा को इस उम्र में पद्मश्री अवॉर्ड से नवाजा गया है. बाबा की उम्र का प्रमाण भी इनके पास है.आधार कार्ड और पासपोर्ट पर इनकी जन्मतिथि 8 अगस्त 1896 दर्ज है.इस हिसाब से ये दावा किया जाता है कि बाबा दुनिया के सबसे बुजुर्ग इंसान है.हालांकि गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में जापान के चित्तेसु वतनबे के नाम अभी ये रिकॉर्ड दर्ज है. देखें चाय पर चर्चा.

अटारी बॉर्डर पर बीटिंग रिट्रीट का जश्न, भारत माता की जयकार से गूंजा आसमान

26 जनवरी 2022

देश आज अपना 73वां गणतंत्र दिवस मना रहा है. इस मौके पर अटारी बॉर्डर पर खास आयोजन किया गया है.वैसे तो हर रोज शाम को अटारी बॉर्डर पर बीटिंग रीट्रिट सेरेमनी होती है, लेकिन आज का दिन बेहद खास है. बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी के दौरान बीएसएफ के जवानों की परेड के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित हो रहे हैं. इस मौके पर पूरा माहौल भारत माता की जय और वंदेमातरम के नारों से गूंजता रहा है. हिंदुस्तान के जोशीले जवानों के बूटों की धमक दूर तक सुनाई पड़ी है.

जोश और जज़्बे के साथ गणतंत्र दिवस समारोह की तैयारी, राजपथ से सरहद तक चौकसी

25 जनवरी 2022

कल पूरी दुनिया राजपथ पर भारत के शौर्य और संस्कृति की झलक देखेगी.गणतंत्र दिवस के सेलिब्रेशन में कोई खलल ना डाल सके इसके लिए सुरक्षा का मजबूत घेरा तैयार किया गया है. बार्डर से लेकर राजपथ तक ऐसा सुरक्षा घेरा तैयार किया गया है कि परिंदा भी पर ना मार सके.सीमा पर हमारे जवान बाज जैसी नजरों के साथ दुश्मन की हर हरकत पर नजर रखे हुए हैं तो राजपथ पर अत्याधुनिक तकनीक के सहारे चप्पे-चप्पे की निगरानी हो रही है. देखें चाय पर चर्चा.

देश को बेटियों की सलामी, देखिए राजपथ पर देश की नारी शक्ति

24 जनवरी 2022

दो दिन बाद राजपथ पर गणतंत्र दिवस की परेड निकलेगी.इस परेड में भारत की आन-बान और शान पूरी दुनिया देखती है.इसी परेड में बेटियां जब कदमताल करेंगी तो देश का सीना गर्व से फूल जाएगा...तो बताते हैं आपको उन बेटियों के बारे में जो परेड में अलग-अलग दस्तों को लीड करती नजर आएंगी.

आज देश में ऐतिहासिक बदलाव, शहीदों के सम्मान में जल रही लौ को मिला नया पता

21 जनवरी 2022

आज देश में एक ऐतिहासिक बदलाव हुआ है. शहीदों के गौरव के सम्मान के लिए जल रही लौ को नया ठिकाना मिला है. उन शहीदों के बीच जगह दी गयी है जिनके लिए बीते 50 सालों से ये लौ जलती आ रही है. इंडिया गेट पर देश के तमाम शहीदों के नाम वॉर मेमोरियल बना है, इस वॉर मेमोरियल में 1947 के बाद जितने भी सैनिक शहीद हुए हैं उनके नाम लिखे गए हैं. अब अमर जवान ज्योति की लौ भी इसी वॉर मेमोरियल में प्रज्वलित हो रही है.

बर्फबारी में रखवाली करते 'हिमयोद्धा', जानें ये जवान ऐसे हालात में कैसे करते गश्त ?

20 जनवरी 2022

गणतंत्र दिवस काफी करीब है. इस दिन पूरी दुनिया हिंदुस्तान की ताकत और सांस्कृतिक विरासत की झलक देखती है और आजादी के अमृत महोत्सव के कारण इस बार का गणतंत्र दिवस तो बेहद खास है. अगर हम और आप आज गणतंत्र दिवस की खुशियां मना रहे हैं तो इसका श्रेय जाता है उन जवानों को जो विषम परिस्थितियों में सरहद की हिफाजत करते हैं. आज आपको दिखाएंगे कैसे इतने मुश्किल हालात में जवानों के हौसले बुलंद रहते हैं और बताएंगे उन साजो सामान के बारे में जिनके साथ ये सीमा पर गश्त देते हैं. देखें चाय पर चर्चा.

11 मार्च से Pandemic से Endemic की तरफ बढ़ेगा कोरोना, ICMR ने जताया अनुमान

19 जनवरी 2022

देश कोरोना की तीसरी लहर के दौर से गुजर रहा है.तीसरी लहर को लेकर तमाम आशंकाएं जाहिर की जाती रही हैं...लेकिन अभी तक जो वायरस की चाल सामने आई है वो दूसरी लहर जितनी भयानक नहीं है.भले ही कोरोना के आंकड़े फिलहाल लुकाछिपी कर रहे हैं.लेकिन आने वाले कुछ हफ्तों में हालात तेजी से सुधर सकते हैं.11 दिसंबर को देश में पहला ओमिक्रॉन का मामला सामने आया था. ICMR का अनुमान है कि 11 मार्च तक कोरोना का ग्राफ काफी नीचे आ जाएगा और ये पैनडेमिक से एनडेमिक की तरफ बढ़ेगा. देखें चाय पर चर्चा.

बर्फ के गुंबद से सजे पहाड़, डलहौजी में रास्तों से बर्फ हटाने के लिए लगाई गई मशीन

18 जनवरी 2022

सर्दी ने तो इस बार कमाल कर दिया है.क्या पहाड़ और क्या मैदान...सब जगह लोग कांप रहे हैं.पहाड़ी इलाकों में इतनी बर्फबारी हो रही है मानो आसमान इस सीजन बर्फ का सारा स्टॉक खाली कर देगा, इतनी बर्फ पड़ रही है कि देखते ही हाथ-पैर जमने लगे. हिमाचल प्रदेश के डलहौजी में भारी बर्फबारी के चलते सब जगह बर्फ ही बर्फ नजर आ रही है. इतनी बर्फ गिरी है कि रास्ते तक रुक गए. रास्तों से बर्फ हटाने के लिए मशीनों को लगाना पड़ा. बर्फ ने पूरे इलाके को बेहद खूबसूरत बना दिया है. देखें चाय पर चर्चा.

उत्तराखंड: स्कीईंग रिसोर्ट औली में धूमधाम से मनाया गया 'वर्ल्ड स्नो डे', बर्फ में जमकर थिरके युवा

17 जनवरी 2022

विश्वभर में वर्ल्ड स्नो डे के साथ उत्तराखंड में विश्व प्रसिद् स्कीईंग रिसोर्ट औली में आज धूमधाम से वर्ल्ड स्नो डे मनाया गया. स्थानीय स्कियरो ने पर्यटकों के साथ वर्ल्ड स्नो डे मनाया. पर्यटकों व स्थानीय लोग वर्ल्ड स्नो डे के अवसर पर औली के बर्फ़ीली वादियों में खूब थिरके. आज दुनिया के 44 देशों के साथ भारत मे स्कीईंग रिसोर्ट औली में वर्ल्ड स्नो डे मनाया गया, हर वर्ष जनवरी में तीसरे सप्ताह के रविवार को वर्ल्ड स्नो डे मनाया जाता है. देखें चाय पर चर्चा.

देश भर में मकर संक्रांति की रौनक, लोगों ने स्नान के बाद किया दान

14 जनवरी 2022

मकर संक्रांति एक ऐसा पावन पर्व है, जो सनातनी परंपरा का प्रतीक है. इस पावन मौके पर पवित्र नदियों में स्नान की परंपरा है. इस मौके पर स्नान और दान का विशेष विधान है. ये पर्व प्रकृति और पर्यावरण के प्रति हमारी अगाढ़ आस्था को भी दर्शाता है. ये एक ऐसा त्यौहार है, जो देश के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग नामों से मनाया जाता है. लेकिन भावना सब जगह एक ही होती है. ये पर्व भी भारत की समृद्ध संस्कृति के दर्शन कराता है.

पंजाब में लोहड़ी की धूम, गुड़, गजक और रेवड़ी बांटने की परंपरा

13 जनवरी 2022

कोरोना के कारण बाजारों में रंगत थोड़ी फीकी जरूर है लेकिन रेवड़ी, मूंगफली और तिल, तिलवे से दुकानें सज चुकी हैं. मकर संक्रांति के ठीक एक दिन पहले लोहड़ी का पावन पर्व मनाया जाता है. खास तौर से पंजाब और हरियाणा के लोग इसे बहुत धूम-धाम से मनाते हैं. लोहड़ी वाले दिन आग में तिल, गुड़, गजक, रेवड़ी और मूंगफली चढ़ाने का रिवाज है. लोहड़ी का त्योहार किसानों का नया साल भी माना जाता है. लोहड़ी को सर्दियों के जाने और बसंत के आने का संकेत भी माना जाता है. कई जगहों पर लोहड़ी को तिलोड़ी भी कहा जाता है. देखें चाय पर चर्चा.