scorecardresearch

प्रार्थना हो स्वीकार

'ॐ' का उच्चारण करने से सारी बाधाएं होती हैं दूर, जानिए महत्त्व और इसे जपने के नियम

02 मार्च 2024

ॐ की ध्वनि बिना किसी संयोग या टकराव के पूरे ब्रह्मांड में गूंजती रहती है. इसीलिए इसके उच्चारण से आपके इर्द गिर्द सकारात्मक ऊर्जा का संचार होने लगता है. जो लोग ध्यान की गहराइयों में उतरना जानते हैं वो इस चमत्कारी ध्वनि को सुन सकते हैं.

शनिदेव को क्यों प्रिय है शमी का पौधा? जानिए क्या हैं इस पौधे से जुड़ी पौराणिक मान्यताएं

01 मार्च 2024

Significance of Shami Plant: आमतौर पर शनि पीड़ा से मुक्ति के लिए लोग शनिवार को शनिदेव को तेल अर्पित करते हैं लेकिन जानकारों के अनुसार शनि के प्रिय शमी पौधे से चमत्कारी लाभ होता है. ये पौधा कठिन से कठिन परिस्थितियों में भी जीवित रहता है. शमी पौधे का स्वभाव कठोर और तीखा होता है लेकिन इस पौधे से संपन्नता और विजय की प्राप्ति होती है. ये सारे गुण शनि के अंदर पाए जाते हैं इसलिए ये पौधा शनि का पौधा माना जाता है.

एक दान से होगा कल्याण, जानिए किस चीज का दान करना आपके लिए उत्तम

29 फरवरी 2024

Significance of Daan: ज्योतिष कहते हैं कि दान से आप बिगड़े भाग्य को तो संवार ही सकते हैं साथ ही कुंडली के ग्रहों के बुरे प्रभावों को भी आप खत्म कर सकते हैं. मानव जीवन में धर्म के कई भाग बताये गए हैं जिनमे दान एक प्रमुख भाग है. दान करने से धर्म का पालन भी होता है और तमाम समस्याओं का निवारण भी होता है. आयु रक्षा और स्वास्थ्य के लिए तो दान को सबसे अचूक माना जाता है.

बुध का रत्न पन्ना पूरी करेगा हर मनोकामना, जानें इसकी विशेषताएं

28 फरवरी 2024

Emerald: बुध अगर मजबूत हो तो इंसान को वाणी, बुद्धि और व्यक्तित्व से प्रभावशाली बनाता है. मजबूत बुध आपकी कई समस्याओं का समाधान कर सकता है. मजबूत बुध आपको तीव्र बुद्धि, अच्छी त्वचा, सौंदर्य और एकाग्रता का वरदान दे सकता है लेकिन अगर कुंडली में बुध कमजोर हो तो क्या मुश्किलें आती हैं. ज्योतिष के जानकारों की मानें तो कुंडली के बुध को मजबूत करने का सबसे उत्तम उपाय है बुध का रत्न पन्ना धारण करना.

हनुमान जी के 12 चमत्कारी नाम बनाएंगे आपके बिगड़े काम, जानें इनकी महिमा

27 फरवरी 2024

12 names of Lord Hanuman: हनुमान जी को प्रसन्न कर आप धन, संपत्ति, विद्या, सेहत, वैभव, संतान सभी कुछ प्राप्त कर सकते हैं. हनुमानजी भगवान शिव के अवतार माने जाते हैं. प्रभु हनुमान एक ऐसे देवता हैं जो थोड़ी सी प्रार्थना और पूजा से ही शीघ्र प्रसन्न हो जाते हैं. उनसे शीघ्र कृपा पाने के लिए उनकी विधिवत पूजा उपासना तो फलदायी है ही लेकिन हनुमान जी के 12 नामों के जाप से हर विपदा टाली जा सकती है.

सुगंध से होगा नकारात्मक शक्तियों का संहार, जानिए खुशबू का महत्व और इससे जुड़ी सावधानियां

26 फरवरी 2024

Fragrance: दुनिया में तीन चीजें ऐसी हैं जो चक्रों पर सीधा असर डालती हैं - रंग, सुगंध और शब्द यानि मंत्र. मन की अवस्था के अनुसार सुगंध का प्रयोग किया जाए तो मन की जटिलताएं दूर होती हैं. सुगंध के सही प्रयोग से एकाग्रता बढ़ाई जा सकती है और स्नायु तंत्र और अवसाद जैसी बीमारियां भी दूर की जा सकती हैं. इसीलिए पूजा और उपासना के दौरान इसका व्यापक प्रयोग होता है.

शंखनाद से दूर होते हैं सभी कष्ट और मां लक्ष्मी का होता है आगमन, जानिए शंख की महिमा

25 फरवरी 2024

धार्मिक ग्रंथों में शंख को भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी का बहुत प्रिय बताया गया है. इसलिए माना जाता है कि जिस घर में शंख होता है, वहां भगवान विष्णु का वास होता है, और जहां भगवान विष्णु होंगे वहां महालक्ष्मी स्वयं आ जाती हैं.

5 हजार साल पुराना हनुमान मंदिर जहां गिलहरी रूप में पूजित हैं भगवान, देखिए मंदिर से जुड़ी मान्यताएं

24 फरवरी 2024

आज हम आपको लेकर चलेंगे हनुमान जी के सिद्ध दरबार में. मान्यता है कि बजरंग बली का ये दरबार विश्व का इकलौता मंदिर है जहां हनुमान जी का मुख गिलहरी के रुप में है. जहां बजरंग बली गिलहराज के स्वरूप में पूजे जाते हैं.

Shri Suktam: श्री सूक्तम की महिमा और किन स्थितियों में करें इसका पाठ? जानिए सबकुछ

23 फरवरी 2024

Shri Suktam Path: जीवन में संपन्नता और प्रसन्नता तब तक नहीं मिल सकती जब तक मां लक्ष्मी की कृपा ना हो. अगर आप भी धन की कामना रखते हैं तो देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करना बेहद जरूरी है. इनकी पूजा से केवल धन ही नहीं बल्कि नाम और यश भी मिलता है. इनकी उपासना से दांपत्य जीवन भी बेहतर होता है. धन की देवी को प्रसन्न करने के लिए श्री सूक्तम का पाठ सर्वोत्तम माना गया है.

ज्योतिष में बृहस्पति का क्या है महत्व? जानिए कैसे मजबूत होगा Brihaspati

22 फरवरी 2024

Brihaspati Significance: नवग्रहों में बृहस्पति को गुरु और मंत्रणा का कारक माना जाता है. पीला रंग, स्वर्ण, वित्त और कोष,कानून, ज्ञान, मंत्र, ब्राह्मण और संस्कारों को नियंत्रित करता है. पाचन तंत्र, मेदा और आयु की अवधि को निर्धारित करता है. पांच तत्वों में आकाश तत्त्व का अधिपति होने के कारण इसका प्रभाव बहुत ही व्यापक होता है. महिलाओं के विवाह की संपूर्ण जिम्मेदारी बृहस्पति से ही तय होती है.

बुध प्रदोष व्रत का क्या है महत्व? जानिए इस दिन कैसे करें शिव की उपासना

21 फरवरी 2024

Budh Pradosh Vrat 2024: बुध प्रदोष व्रत बुधवार का सबसे उत्तम व्रत माना जाता है. आपकी जुबान, आपके दिमाग के पीछे एक ही ग्रह है और वो है बुध. ज्योतिष शास्त्र में बुध को बहुत महत्वपूर्ण ग्रह माना जाता है. बुध प्रदोष व्रत से भगवान शिव को प्रसन्न किया जा सकता है. कहते हैं प्रदोष के दिन हर संकट और हर बाधा दूर हो जाती है.